सूर्य अस्त के समय नींद का अापके जीवन पर क्या पड़ता है प्रभाव

 

भारत में अपनी पहचान बनाने के साथ- साथ लंदन और अन्य देशों में भी अपने काम के लिए प्रसिद्द वास्तु कंसलटेंट श्री मनोज जैन वास्तु रीडर के साथ होलिस्टिक कोच, ऑरा रीडर, लाइफ कोच भी हैं ।

सुखद और गहरी नींद एक ऐसा एहसास है, जिसे पाने के लिए अमीर से लेकर गरीब तक रहता है बेताब। नींद आये तो हम न बिस्तर देखते है न जगह,बस नींद आयी नहीं और लगे खर्राटे मारने। लेकिन वास्तु गुरु मनोज जैन बताते है की बे टाइम की नींद दूर कर सकती है अपको लक्ष्मी और सरस्वती की कृपा से।
पर डरे नहीं आपकी मदद के लिए मनोज जैन आपको बातएंगे कुछ ऐसे उपाय जिससे आप अनचाही परेशानियों और बीमारियों के बच सकते है, साथ- साथ भविष्य में होने वाली हनियों से भी बच सकते हैं। किताबों को सिर के नीचे रखने से अथवा मुंह पर रखकर सोने से विद्या की देवी सरस्वती का अपमान होता है।मनोज जैन कहते हैं की किताबों को उचित स्थान पर रखने के बाद नींद के आगोश में जाएं अन्यथा इसके अशुभ प्रभाव से आपके धन और सेहत पर भी असर पड़ेगा।
वहीँ दूसरी ओर प्रवेश द्वार की ओर पैर करके सोना नहीं चाहिए, इससे लक्ष्मी का अपमान होता है।यदि कोई अधिक समय से बीमार है तो उसे दक्षिण-पश्चिम कोने में सुलाना चाहिए। कोने में शीतल जल रखने से रोगी बहुत जल्दी स्वस्थ होता है।घड़ी को बेड के आस-पास या तकिए के नीचे रखकर नहीं सोना चाहिए। इससे चिन्ता और तनाव बना रहता है। और आखिरी उपाये की हल्के रंग और पैटर्न की बेडशीट बिछाने से सुकून भरी नींद आती है।