होगा स्वास्थ्य और धन सम्पदा में लाभ अगर खिड़कियों को लगाते समय दिशा का रखें ध्यान

भारत में अपनी पहचान बनाने के साथ- साथ लंदन और अन्य देशों में भी अपने काम के लिए प्रसिद्द वास्तु कंसलटेंट श्री मनोज जैन वास्तु रीडर के साथ होलिस्टिक कोच, ऑरा रीडर, लाइफ कोच भी हैं । उनके अनुसार खिड़कियों को लगाते समय इन उपायों को करने से धन और आपको स्वास्थ्य दोनों में बहुत लाभ मिलेगा:

1.घरों में खिड़कियां धूप-हवा और रोशनी का स्रोत होती हैं ।घर में खिड़कियों का महत्वपूर्ण स्थान होता है जिस से हमें धूप और प्राकृतिक रोशनी मिलती है । साथ ही कई तरह की शारीरिक और मानसिक रोगों से भी हमें दूर रखती है ।

2.यदि उत्तर दिशा की दीवार से किसी और का घर लगा हुआ है तो अपने घर और पड़ोसी के घर के बीच जगह खाली रखें और फिर खिड़की बनाएं। इस उपाय से भवन के स्वामी के आर्थिक संकट दूर रहते हैं।

3.दक्षिण दिशा में खिड़कियां छोटी और कम बनानी चाहिए जिससे भवन में हवा का क्रॉस वेंटिलेशन हो सके । साथ ही दोपहर बाद की सूर्य से निकलने वाली हानिकारक किरणें घर में प्रवेश न कर सकें।

4.खिड़कियां अंदर की तरफ खुलनी चाहिए । भवन में खिड़कियों में अंदर और बाहर दोनों तरफ पल्ले होते हैं तो वहां अंदर की तरफ पल्ले वाली खिड़कियों को ही खोलना चाहिए।

5.खिड़कियों को हमेशा साफ और स्वच्छ रखें। ।

6.घर में खिड़कियां हमेशा सम संख्या में होनी चाहिए जैसे 2 , 4 , 6 , 8 ही खिड़कियाँ होना शुभ माना जाता है क्यूंकि विषम संख्या शुभ नहीं मानी जाती है।

7.घर के मुख्य दरवाजे के दोनों तरफ खिड़कियां होनी चाहिए ताकि चुम्बकीय चक्र पूर्ण होता रहे । इससे घर में सुख-शांति हमेशा बनी रहती है।

8.घर के पूर्वी, उत्तरी और पश्चिमी दीवार पर खिड़की होना शुभ माना जाता है।

9.पूर्व दिशा सूर्य की होती है इसलिए इस दिशा में ज्यादा-से-ज्यादा खिड़कियां शुभ मानी जाती है। इससे घर में सूर्य का प्रकाश और धूप दोनों पर्याप्त मात्रा में आती है ।

10.उत्तर दिशा धन के देवता कुबेर की होती है । इस दिशा में खिड़कियां होने पर घर के निवासियों पर कुबेर की कृपादृष्टि बनी रहती है । इससे घर-परिवार में धन-धान्य की कमी नहीं रहती है।