अगर बाथरुम में है वास्तु दोष तो अपनाएं ये उपाय

भारत से लेकर विदेशों तक अपने ज्ञान और उसके पीछे छिपे साइंटिफिक एप्रोच से लोगों की ज़िन्दगी में एक सकारात्मक बदलाव लाने वाले मनोज जैन अंधविश्वास को खत्म करना चाहते हैं , और हरबात के पीछे छिपे लॉजिक को आपके सामने रखते हैं,वास्तु कंसलटेंट श्री मनोज जैन वास्तु रीडर के साथ होलिस्टिक कोच, ऑरा रीडर, लाइफ कोच भी हैं.

वास्तु गुरु मनोज जैन कहते हैं की घर में सुख-समृद्धि और शांति बनाए रखने के लिए वास्तु के नियमों का ध्यान रखना भी जरूरी है। वास्तु के अनुसार बताए गए उपाय करने पर वातावरण सकारात्मक बनता है और मानिसक शांति प्राप्त होती है। वास्तु की दृष्टि से न सिर्फ आपका बेडरुम बल्कि बाथरुम भी बहुत महत्व रखता है। अगर आपका बाथरुम वास्तु दोष से प्रभावित होता है तो न सिर्फ आपके घर में रहने वाले लोगों की सेहत को प्रभावित करता है बल्कि यह आपकी आर्थिक स्थिति को भी चोट पहुंचाता है। वास्तु विज्ञान तो यह भी कहता है कि बाथरुम और शौचालय इनसे सबसे अधिक वास्तु दोष का डर रहता है। इसलिए इनके वास्तु का विशेष ध्यान रखना चाहिए इसके लिए यह 7 उपाय बहुत ही आसान और कारगर माने जाते हैं।

1. यदि आप अपने बाथरूम में एक कटोरी में खड़ा यानी साबूत नमक रखेंगे तो आपके घर के कई वास्तु दोष दूर हो जाएंगे। कटोरी में रखा नमक महीने में एक बार बदल लेना चाहिए। खड़ा नमक आपके घर की नकारात्मक ऊर्जा को ग्रहण कर लेता है और वातावरण को सकारात्मक बनाता है।

2. घर में बाथरूम का नल या किसी अन्य स्थान का नल लगातार टपकते रहता है तो यह बात छोटी नहीं है, वास्तु में इसे गंभीर दोष माना गया है। अत: नल से पानी टपकना बंद करवाना चाहिए।

3. अगर आप बाथरुम में शीशा लगाए हुए हैं तो इस बात का ध्यान रखें कि इसका मुंह दरवाजे की ओर नहीं हो। इससे घर में नकारात्मक उर्जा का प्रवेश घर में होता है जो आपको कई तरह की परेशान करता है।

4 . बाथरुम में पानी का निकास उत्तर या पूर्व दिशा की ओर होना चाहिए। अगर दक्षिण और पश्चिम की ओर निकास होगा तो घर मे आर्थिक परेशानी एवं गृह कलह होता है।

5 . बाथरुम में बाल्टी या टब जो भी हो उसे खाली न रखें। इनमें पानी हमेशा भरा रहने पर खुशियां स्थायी बनी रहती हैं।

6 . 2-3 दिन में कम से कम एक बार पूरा बाथरूम अच्छी तरह साफ करना चाहिए। बाथरूम यदि एकदम साफ रहेगा तो इसका शुभ असर आपकी आर्थिक स्थिति पर भी पड़ेगा। साफ-सफाई वाले घरों में देवी-देवताओं की विशेष कृपा रहती है।

7 . यदि बाथरूम का दरवाजा बेडरूम में खुलता हो तो उसे खुला रखने से बचना चाहिए। वैसे तो बेडरूम में बाथरूम नहीं होना चाहिए, लेकिन बेडरूम में बाथरूम है तो उसके दरवाजे पर पर्दा भी लगाना चाहिए। बेडरूम और बाथरूम की ऊर्जाओं का परस्पर आदान-प्रदान हमारे स्वास्थ्य के लिए अच्छा नहीं होता।