झाड़ू से जुड़े कुछ अंधविश्वास

वास्तु का पालन करना अच्छी बात है परन्तु अंधविश्वास के चलते कुछ भी बातें मानना समझदारी नहीं है, हमारे वास्तु कंसलटेंट श्री मनोज जैन ने बताया कौनसी बातें हैं जिनको लेकर लोग हो जाते हैं अंधविश्वासी..
* कुछ विद्वानों का मानना है कि दिनभर घर में जो ऊर्जा इकट्ठी हो गई है उसे रात में बाहर करना ठीक नहीं।
* खुले स्थान पर झाड़ू रखना अपशकुन माना जाता है इसलिए इसे छिपाकर रखा जाता है। जिस प्रकार धन को छुपाकर रखते हैं उसी प्रकार झाड़ू को भी। वास्तु विज्ञान के अनुसार जो लोग झाड़ू के लिए एक नियत स्थान बनाने की बजाय कहीं भी रख देते हैं, उनके घर में धन का आगमन प्रभावित होता है। इससे आय और व्यय में असंतुलन बना रहता है। आर्थिक परेशानियों का सामना करना पड़ता है।

* भोजन कक्ष में झाड़ू भूलकर न रखें। मान्यता अनुसार इससे अनाज खत्म होने और इंकम के रुक जाने का डर बना रहता है।
* घर के बाहर दरवाजे के सामने झाड़ू उल्टी करके रखने से यह चोर और बुरी ताकतों से आपके घर की रक्षा करती है। यह काम केवल रात के समय किया जा सकता है। दिन के समय झाड़ू छिपाकर रखना चाहिए ताकि किसी को नजर न आए।
* अगर कोई बच्चा अचानक झाड़ू लगाने लगे तो समझना चाहिए आपके घर में अनचाहा मेहमान आने वाला है।* घर में नमक मिले पानी से पोंछा लगाने से घर से नकारात्मकता खत्म हो जाएगी। बुरी ताकतें बेअसर हो जाती हैं।
* गुरुवार को घर में पोंछा न लगाएं, ऐसा करने से लक्ष्मी रूठ जाती है। गुरुवार को छोड़कर घर में रोज पोंछा लगाने से लक्ष्मी की कृपा बनी रहती है।
* जो लोग किराए से रहते हैं वे नया घर किराए पर लेते हैं अथवा अपना घर बनवाकर उसमें गृह प्रवेश करते हैं तब इस बात का ध्यान रखें कि आपकी झाड़ू पुराने घर में न रह जाए। मान्यता है कि ऐसा होने पर लक्ष्मी पुराने घर में ही रह जाती है और नए घर में सुख-समृद्घि का विकास रुक जाता है।