झाड़ू के इस्तेमाल में रखें इन बातों का ध्यान घर में बनी रहेगी समृद्धि

भारत से लेकर विदेशों तक अपने ज्ञान और उसके पीछे छिपे साइंटिफिक एप्रोच से लोगों की ज़िन्दगी में एक सकारात्मक बदलाब लाने वाले वास्तु कंसलटेंट श्री मनोज जैन वास्तु रीडर के साथ होलिस्टिक कोच, ऑरा रीडर और लाइफ कोच भी हैं।
आज के समय में हर व्यक्ति जहां भी अपना समय दे रहा है वहां से हर प्रकार की सुख, आर्थिक संपन्नता और शांति चाहता है। मगर, इसे हासिल करना इतना भी मुश्किल नहीं है। आपको  सिर्फ झाड़ू से जुड़ी कुछ बातों का ध्यान रखना होगा ,इससे ना सिर्फ आपके घर की कलह खत्म होगी, बल्कि मां लक्ष्मी का भी वास होगा। झाड़ू का महत्व इससे भी समझा जा सकता है कि रोगों को दूर करने वाली शीतला माता अपने एक हाथ में झाड़ू लिए रहती हैं। आइये जानतें हैं मनोज जैन से वास्तु के अनुसार झाड़ू से जुड़ी किन बातों का ध्यान रखना चाहिए।

सूर्यास्त होने के बाद कभी भी झाड़ू नहीं लगानी चाहिए। माना जाता है कि इससे लक्ष्मी रूठ जाती हैं। सबसे पहली बात यदि घर का मुखिया किसी खास काम से घर से बाहर निकलता है तो उसके जाने के तुरंत बाद घर में झाड़ू कभी भी नहीं लगाना चाहिए। ऐसा माना जाता है कि अगर ऐसा किया जाए तो बनता काम बिगड़ जाता है। वास्तु शास्त्र के अनुसार जो व्यक्ति झाड़ू को एक ही नियत स्थान पर रखने की बजाय कहीं भी रख देते हैं, उनके घर में धन का आगमन प्रभावित होता है। सपने में झाड़ू देखने का मतलब होता है, आपका आर्थिक नुकसान होने वाला है। हम जिस प्रकार धन को छुपाकर रखते हैं, उसी प्रकार झाड़ू को भी अपने घर में आने-जाने वाले लोगों की नजरों से दूर रखना चाहिए। झाड़ू पर कभी भी पैर नहीं मारना चाहिए। ऐसा होने पर लक्ष्मी रूठ जाती हैं। झाड़ू को कभी भी खड़ी करके नहीं रखना चाहिए, ऐसा करने पर घर में कलह होती है। मां लक्ष्मी को प्रसन्न करने के लिए किसी भी मंदिर में ब्रह्म मुहूर्त में तीन झाड़ुओं का गुप्त दान करें। मंदिर में झाडू दान करने के पहले शुभ मुहूर्त अवश्य देख लें। यदि उस दिन कोई शुभ योग, त्यौहार हो तो इस दान की महत्ता बढ़ जाती है और घर में स्थाई लक्ष्मी का वास होता है। जब भी किसी नए घर में प्रवेश करें, तो नई झाड़ू लेकर ही घर के अंदर जाना चाहिए। यह शुभ शकुन माना जाता है। इससे नए घर में सुख-समृद्धि और शांति बनी रहेगी।